“महाअभियान” खाती ग्रुप मध्यभारत

सर्वप्रथम तो “महाअभियान” खाती ग्रुप मध्यभारत में जुड़ने का हमारा आमंत्रण स्वीकार करने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद। धन्यवाद इसीलिए भी कि आपने हमारे समाज के महाभियान के बारे में जानने की उत्सुकता है।
“महाअभियान” के उद्देश्य के बारे में बाते करने की अनुमति मांगते हुए कुछ बाते साझा करना चाहता हूँ कि पढ़ने के बाद गंभीर होकर सोचना कि अभियान के उद्देश्य में कितनी सच्चाई है, नीचे कमेंट बॉक्स में टिप्पणी करके बताना जरूर। फिर भी अगर कोई सवाल आपके जहन में हो तो आप बिना संकोच किये दिए न. पर बात भी कर सकते है।





(1) अगर आपका बच्चा या पोता-पोती प्रायवेट स्कूल में पढ़ रहा होगा तो आपको अच्छी तरह से मालूम होगा कि क्या फीस लग रही है।
(2) हम हमारे बच्चों को पढ़ाते तो है फिर भी उसे रोजगार नहीं मिल पाता। या इतना धन नहीं होता कि स्वरोजगार के लिए किसी धंधे में निवेश कर सके।
(3) हम या हमारे कभी अस्पताल में भर्ती हुए है तो भी हमें मालूम है कि कैसे बिल बनता है।

अब आगे की सच्चाई बताते चले..

पहला हम आने वाली पीढ़ी को नहीं पढ़ा पाएंगे क्योंकि आने वाले समय में शिक्षा इतनी महँगी हो जाएगी कि हम अपने परिवार का भरण पोषण करेंगे कि पढ़ाएंगे और यदि नहीं पढ़ा पाये तो रोजगार मुश्किल है। चिकित्सा सेवा भी इतनी महंगी हो जाएंगी की आम आदमी की पहुँच के बाहर हो सकती है ऐसे में क्या होगा हम जानते ही है। अब मुद्दे की बात बताता हूँ कि हम सभी को मुफ्त शिक्षा, चिकित्सा और हमको या हमारे बच्चे को रोजगार कैसे मिले?

“शिक्षा महाभियान” खाती समाज मध्य भारत

हम ऐसे स्कूल का निर्माण करने जा रहे है जो आधुनिक युग का सर्व सुविधा युक्त होगा जैसे ,इंग्लिश मीडियम पढ़ाई होने के साथ आधुनिक शिक्षा भी रहेगी जैसे कम्प्यूटर, योग, आद्यतमक, जिम, तैराकी, सभी प्रकार के खेल साथ ही हॉस्टल मेस ,वाहन इत्यादि। जिसमें बच्चों की सिर्फ ट्यूशन फीस ओर वाहन फीस ही लगेगी बाकी अन्य फीस जैसे भवन, गेम्स आदि अन्य प्रकार की कोई भी अन्य फीस नहीं लगेगी। दूसरे स्कूलों की फीस से तुलना करेगें तो ना के बराबर होगी।

“स्वरोजगार महाभियान” खाती समाज मध्य भारत

अब आते है इसके निर्माण पर तो इसमें हमारे परिवार के जो सदस्य जिस कार्य का बिजनेस कर रहे है। इन्ही को ठेके पर कार्य देंगें जैसे जो प्रोपर्टी का कार्य करते है उनसे जमीन,जो रजिस्ट्री का करते है उनसे रजिस्ट्री ,इंजीनियर से नक्शा ,ठेकेदार से ठेकेदारी ईट,सीमेंट, बिजली, फर्नीचर इत्यादी कहने का मतलब हमारे सदस्यो में से जो भी काम करता है उसे ही ठेका देंगे । और उन्ही से सामान खरीदेंगे अब स्कूल आपका तैयार अब स्कूल में शिक्षक भी अपना में से ड्राईवर भी अपना में से मेस भी अपनी में से मतलब पूरा स्टाफ अपना स्वजाती बंधु में से आपका स्कूल चालू अब आप सोच रहे होंगे कि ये तो खयाली पुलाव है। सिर्फ सपना है, बनेगा कैसे ? मुझे भी ऐसा ही लगा था but हमारे समाज के कई लोगो के स्कूल चल रहे है और उनके अकेले के बल बुते पर चला रहे है आपको अपने अपने क्षेत्र के बारे में मालूम होगा ही तो क्या हम मिलकर नही बना सकते बिल्कुल बना सकते है और इसी कड़ी में हम 11 सामाजिक बन्धूओ ने मिलकर इसी सत्र में स्कूल प्रारम्भ कर दिया है but कोरोना की वजह से पढ़ाई नही हो पा रही है अब आता हूँ अभियान के मुख्य उद्देश्य पर स्वयं को आत्मनिर्भर बनना और बनाना अब मेने ऊपर कहा कि नि:शुल्क शिक्षा देंगे ऐसे होगी। नि: शुल्क शिक्षा अब उदाहरण के तौर पर आप ठेकेदार है तो आपकी
1. कमाई ठेकेदारी से
2. आपके बच्चे का एडमिशन फ्री – अन्य अतिरिक्त शुल्क नहीं (सिर्फ ट्यूशन, बस की ही लगेगी)

आपके बच्चे को रोजगार उसी स्कूल में 5 नेट प्रॉफिट में आपकी हिस्सेदारी आपकी व आपके नहीं रहने पर आपके परिवार को वो भी रॉयल्टी के रूप में आजीवन। अब आपके बच्चे को नि: शुल्क शिक्षा मिली की नहीं ओर आपके बच्चे को रोजगार मिला के नहीं ।

“स्वास्थ्य महाभियान” खाती समाज मध्य भारत

इसी प्रकार हमारे समाज का अस्पताल होगा। जिसमें समाज के लोगों का नाम मात्र के शुल्क पर बेहतर इलाज हो सकेगा और समाज सेवकों को मुफ्त में इलाज उपलब्ध होगा। आपातकालीन समय के लिए एम्बुलेंस की सुविधा होगी। जरूरत पढ़ने पर समाज सेवकों द्वारा रक्त हमेशा उपलब्ध रहेगा।

समय के साथ विभिन्न अभियान जिनसे समाज के हर वर्ग को लाभ प्राप्त हो प्रारम्भ किये जाते रहेंगे। वेयरहाउस, कोल्डस्टोरेज, मॉल या अन्य कोई भी इसी थीम पर आधारित होगा। समूह में मिलकर सभी प्रकार की दुकानें खोलना आदि।

अब आता है सवाल कि महाभियान से जुड़े कैसे?

आपको नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करना होगा। पहले दिए गए फॉर्म को पूरा भरें। यदि महाभियान से सम्बन्धित किसी प्रकार का सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में लिखकर भेजें।
जय हिन्द – जय जगदीश



नोट:-

  • अभियान आपसे किसी प्रकार का चंदा नहीं मांगेगा, ओर नही आपको किसी से माँगना है।
  • श्री गणेश चुतुर्थी से रजिस्ट्रेशन प्रारंभ हो गया है।
  • महाअभियान से जुड़ने के लिए पहले आओ पहले पाओ पर आधारित है।